GET MOTIVATIONAL INSPIRATIONAL AND LOVE STORIES, SHAYRIES, QUOTES AND BIOGRAPHIES. YOU CAN ALSO GET HERE APPLIED EDUCATION, USEFULL GENERAL INFORMATION, BUSINESS IDEAS, ONLINE JOBS, CAREER TIPS, HELTH TIPS, ROCHAK FACTS, SPORTS FACTS, TRAVELLING FACTS AND NEW TECHNOLOGIES DESCRIPTIONS.

हिंदी के सुप्रसिद्ध वेब पोर्टल हिन्दीशिखर डॉट कॉम पर आपका स्वागत हैं।

Please Choose Your Language in Which do You want to Read

Search Your Post

दायरा-एक मानसिक बन्धन : Mental Bondage



एक समय की बात है, एक गांव में एक पर्यटक पर्यटन के लिए आया था। गाँव एक बहुत ही सुन्दर पहाङी पर बसा हुआ था,गांव के पीछे कुछ दूरी पर एक बहुत ही सुन्दर सुजल धारा वाली नदी बह रही थी ।नदी पहाङी के एकदम नीचे बह रही थी ।
पर्यटक ने सम्पूर्ण गाँव तथा पहाड़ी का भ्रमण किया और वहाँ की हरियाली का खूब आनंद उठाया । अंत में वह घूमते घूमते गांव के पीछे पहाड़ी के उस स्थान पर जा पहुँचा, जहाँ से नदी का मनमोहक नजारा दिख रहा था। उसके मन में नज़ारे को करीब से देखने की इच्छा जाग्रत हुई, और वह पहाड़ी के किनारे इतना करीब चला गया, कि वह अपने को संभाल नहीं पाया और वहाँ से फिसल कर नदी में जा गिरा।
जब वह डूबने लगा तो जोर-जोर से बचाओ-बचाओ चिल्लाने लगा, वहाँ दूर दूर तक बचाने वाला कोई नहीं था; सिवाय एक 10-12 साल के बालक के जो, उस समय वहाँ पर सूखी लकड़िया काट रहा था। जब उस बालक ने उस आदमी की आवाज सुनी तो वह तुरन्त पहाड़ी के किनारे जा पहुँचा। उसने देखा की कोई नदी में डूब रहा है, वह तुरंत उस आदमी को बचाने के बारे में सोचने लगा। एका-एक उसके दिमाग में उस आदमी को बचाने का विचार आ गया। वह तेजी के साथ एक बेहद मजबूत लता वाले पेड़ की तरफ भगा, और उस पर चढ़ गया ; बहुत तेजी के साथ उसने उन लताओं को काट गिराया, और नीचे उतार कर  उनको जोड़कर एक लंबी रस्सी तैयार कर ली । उसके बाद वह बहुत तेजी के साथ पहाङी के किनारे जा पंहुचा। उसने रस्सी के एक किनारे को नदी में फेंक दिया, और उस आदमी को रस्सी पकड़ने के लिए बोला ।
आदमी ने उस रस्सी को झटपटाते हुऐ पकड़ लिया।
अब उस बच्चे ने पूरी मेहनत के साथ उस आदमी को खींचना शुुरु किया। वह बार-बार रस्सी को खींच रहा था, पर रस्सी बार- बार फिसल जाती थी, परंतु वह बालक जिसकी बाजुएं अभी इतनी ज्यादा मजबूत नहीं थी, लेकिन वह फिर भी प्रयास नहीं छोड़ रहा था। क्योंकि उसकी जिंदगी में ऐसा पहली बार हो रहा था, इसलिए उसके मन में यह विचार ही नहीं था, कि वह उसे नहीं बचा पायेगा। वह पूरी सिद्धत के साथ उसे बचाने में लगा रहा, और काफी संघर्ष के बाद आखिरकार वह उसे बचने में सफल हो ही गया। नदी से निकलने के बाद पर्यटक ने बालक का आभार प्रकट किया, और कुछ समय बिताने के बाद वह अपने गंतव्य स्थान की और प्रस्थान कर गया। बालक ने अपनी लकड़ियों का गट्ठर बांधा और अपने गांव की और चल दिया । बालक मन ही मन खुश हो रहा था, कि वह गांव जाकर सभी को बताएगा, कि किस तरह आज उसने एक नदी में डूबते हुए आदमी को बचाया ।
 
जब वह गांव पंहुचा, तब उसने बहुत ख़ुशी के साथ सबको बताया कि, कैसे उसने एक डूबते हुए आदमी को बचाया।लेकिन ये क्या ? किसी भी गाँव वाले ने उसकी इस बात पर विश्वास ही नहीं किया। उन सभी का कहना था कि तू इतना छोटा होकर के इतनी
ऊँची पहाड़ी से किसी व्यक्ति को भला कैसे बचा सकता है।
तुम इस लायक नहीं हो।
क्या आप जानते है ? कि ऐसा वह  बालक कैसे कर पाया ? क्योंकि उस घटना के दौरान, उस बालक से दूर-दूर तक यह कहने वाला कोई नहीं था; कि तुम इस लायक नहीं हो,या तुम ऐसा नहीं कर सकते हो । अगर उसके मन में जरा-सा भी यह विचार होता कि वह अभी इस लायक नहीं है, कि वह किसी को बचा सके, तो इस बात की सौ फीसदी गारंटी थी, कि वह उस आदमी को नहीं बचा पाता।
दोस्तों हमारी जिंदगी भी इसी तरह से चलती है, हम अपने आस पास के दायरे में बंधे हुए है। हमारे समाज के लोगों ने हमें एक दायरे के अंदर कैद कर दिया है। हम किसी बड़े काम को करने के लिए अक्सर अपने आप को उस कम के लायक नहीं समझते है। हम यह पूरी तरह से मन में बिठा
चुके है, कि हम उस लायक नहीं है; जिस लायक वे लोग है जो बड़े-बड़े इतिहास रचते है। यह सोचकर अपने आप को तसल्ली देते है क़ि भगवान ने हमें उस लायक नहीं बनाया है।
जबकि सच्चाई तो यह है कि ईश्वर ने तो सभी को सामान बनाया है,अगर कोई इंसान किसी परिस्थिति का शिकार है, तो वह उसकी सोच का ही कारण है।

अगर आप जिंदगी में कुछ करना चाहते है। तो फिर से बच्चों की तरह सोचना चालू कर दो। उन सारी इच्छाओं को बाहर निकालो, जिनके आप बचपन में सपना देखा करते थे । बच्चों की तरह उनको पाने कि हट कर बैठो और भूल जाओ अपने आस पास के उन लोगो कि बातें, जो आप से कहते है; कि आप यह नहीं कर सकत हो। देखना एक न एक दिन सफलता आपके कदम जरूर चूम लेगी ।


दोस्तो अगर आपको ये कहानी पसंद आई हो तो लाइक और अपने सभी मित्रों व संबंधियों को शेयर करना न भूले।